16 August 2017

आओ‌, इस स्वतंत्रता दिवस इतना तो करें..



        "प्रशस्ति पत्र प्राप्त, सम्मानित सभी अधिकारीयों कर्मचारीयों को बहुत बहुत बधाई"

बधाई इसलिये, की जिन शासकीय अधिकारीयों व कर्मचारीयों ने स्वतंत्रता दिवस समारोह में जिलाधीश महोदय, विधायक महोदय, जिला पंचायत अध्यक्षा व एसपी महोदय से देश की आन‌_बान_शान- हमारे राष्ट्र ध्वज तले "प्रशस्ति पत्र" प्राप्त किये हैं, मुझे उम्मीद है की उन्होने कभी भ्रष्टाचार या रिश्वतखोरी नही की होगी... और अगर की है तो उस पवित्र-मंच पर अगली बार मत चढिएगा...क्योंकी आप इस लायक नही है, अथवा भ्रष्टाचार व रिश्वतखोरी छोड दिजियेगा... चाहे प्रशस्ति पत्र देने वाले हों या लेने वाले...

     आहां... भ्रष्टाचार करते रहिये, यदि मन ना माने तो... मगर क्या है की राष्ट्रध्वज तले कम से कम सम्मानित हो कर समाज व आने वाली पिढी के आदर्श मत बनिये... आदर्श सिर्फ उन्हे बनना चाहीये जो वास्तव में उसके हकदार हों...
 
        गलती से भी किसी भ्रष्टाचारी को स्वतंत्रता समारोह के पवित्र प्रांगण में, भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के भेस में मौजुद नन्हे मुन्ने, किशोर बालक बालिकाओं ने सम्मानित होते देख लिया तो वे सम्मानित होने वाले भ्रष्टाचारी को ही अपना आदर्श मान लेंगे...
         उन कोमल हृद्यधारी नवांकुरों के मन में क्या यह बात नही आयेगी की सम्मानित होना है तो " इन भ्रष्टाचारी अंकल जैसा बनना पडेगा, क्योंकी भगत सिंह, राजगुरु के चरीत्र को अपनाया तो फिर मंच भारत-माता की गोद होगा और सर पर तिरंगे की जगह फांसी का फंदा... तो फिर वह नन्हा आसान राह चुनेगा... वह अपने आदर्श शा.बा.उ.मा.वि. प्रांगण में से तय कर लेगा, उनमे भी उन्हे जो मंच पर चढकर प्रशस्ति पत्र लेते हैं या देते हैं...
          तो ऐसे में हम और आप क्या कर सकते हैं ? यदि हम सम्मानित होना चाहते हैं तो भ्रष्टाचार छोड दें.... मान लिजिये की वह हमारी रग-रग में बस चुका है तो फिर सम्मानित होना छोड दें... थोडे पिछे सरक जायें... उन लोगों को खोजें जो वाकई सम्मानित होने के हकदार हैं... जो वाकई अभी भी भगत सिंह, सुखदेव, राजगुरु, विवेकानंद व अन्य महापुरुषों जैसे हैं थोडे थोडे... उन्हे आगे आने दें.. वरना आदर्श तो भ्रष्टाचारी अंकल हो जायेंगे तो , शहीदों को कोन पुछेगा फिर...    है ना.. आओ, इस स्वतंत्रता दिवस इतना तो करें...

                  "स्वतंत्रता दिवस की हार्दीक बधाई व शुभकामनाएं"
आपका ‍~ कपिल सिंह चौहान 
+91 9407117155




24 July 2017

सौ चुहे खा कर तो बिल्ली भी हज को चले जाती है, आप कब हज पर जा रहे हैं महाशय !!




अब जब टमाटर 40/- पार बिक रहा है तो मैं नासमझ समझ रहा हूं की "किसानों को उनकी फसल का उचित दाम" मिल रहा है ...
अरे, जब हम 40/- में खरीद रहे हैं तो दे दो ना किसानो को 25/- का भाव
... मगर नही ये टमाटर भी किसानो ने तो 3/- रुपये किलो में ही बेचा होगा
गरीब और मध्यम वर्गीयों के टेक्स के रुपयों से 2/- का प्याज 8/- में खरीद कर फिर व्यापारी को 3 रुपये 10 पैसे में बेचने वाली सरकार धन्य है.. 3 रुपये 10 पैसे में भी लालची, मक्कार, फकीर, सरकारी अधिकारी कमीशन ले रहे है.. एक का वीडीयो वायरल हुआ तो उसकी नौकरी गई.... ये ढांढे भ्रष्टाचारी अफसर नही जानते के शास्त्रों में लिखा है की भ्रष्टाचार से की गई कमाई से कीडे......... उल्टी दस्त हेजा ...... बच्चे विक..... सॉरी दिव्य... खून की ...
हा हा हा :) :) :) कैसे समझाउं इन मक्कारों को...लानत है इन भ्रष्टाचारीयों पर...
 
मृतक नामांतरण तक का पैसा रिश्वत में देना पडता है किसान को... इसकी हाय किसे लगेगी... पात्र गरीब को बीपीएल राशन कार्ड बनवाने में इतना कष्ट है जितना 9 माह में बच्चा पैदा करने में नही होता होगा और 5 जनसुनवाई में जाना अलग .. वहीं अपात्र लोग (जो गरीब नही हैं ) बी पी एल का राशन ले रहे हैं... गरीबों का हक खा रहे हैं...ज़मीर मर चुका है... सरकार बस उन्हे खुश करती है जो ज़्यादा की तादाद में नाराज हों... किसान नाराज तो मरने वाले को एक करोड... एक करोड माने इतना पैसा, मुख्यमंत्री बनने से पहले शिवराज सिंह चौहान ने खुद नही देखा होगा... किसका पैसा है ये ... ये मेरा और आपका पैसा है... पिप्लिया मण्डी में जिन व्यापारीयों के यहां आग लगाई गई क्या उनके परिवार में से भी किसी का मरना ज़रुरी हैं ? क्या तब उनके परिवारों के बारे में सोचा जायेगा...
 

क्या इस राज्य में सम्मान से रहने के लिये मरना ही ज़रुरी हैं... अपनी नाकामीयों को छुपाने का मुआवजा एक करोड कैसे तय कर सकती हैं सरकार !!!
लोक सेवा प्रबंधन के नाम पर सरकार से मूल भुत दस्तावेजों को प्राप्त करने पर शुल्क लगाने वाली सरकार के मुखिया को अब यह कहना पड रहा है की हम फलां समय से फलां समय तक खाता-खसरा की नकल मुफ्त देंगे... नब्ज़ पकड में तो आई मगर इलाज नही...खसरा मुफ्त में नही चाहीये...


सर भ्रष्टाचार मुक्त चाहीये राज्य... अफीम काश्तकारों के पास ज़मीन ना हो और अपने भाई की ज़मीन पर पट्टा लेना हो तो लीगल डॉक्युमेंट्स में 4 हज़ार रुपये खर्च हो जाते हैं... नार्कोटीक्स कार्यालय में जाने के पूर्व नार्कोटीक्स द्वारा तय मुखिया 60 हज़ार रुपये प्रति किसान ले के अधिकारीयों को चढाता है तब पट्टा मिलता है,और पैसे ना दो तो पट्टा नही मिलता... ना ही यह पता चलता है की पट्टा काटा क्यों गया... और हुकुम से पूछ लो के मुझे पट्टा क्यों नही मिला तो फिर सात पीढीयों तक पट्टा नही मिलेगा...

 
सडक बनाने वाले ठेकेदार को भूमी पूजन का खर्च तो उठाना ही है साथ ही उसी दिन माननीय विधायक जी के नाम का लिफाफा भी आपकी सरकार का अधिकारी दाब लेता है, फिर अपना हिस्सा निकाल कर विधायक जी तक वह लिफाफा पहुचा देता है... इसके बाद लोकार्पण तक का सारा खर्च वहन करते हुए अपने काम की अंतिम किश्त पाता है ठेकेदार... अब विधायक जी किस मूंह से पुछेंगे के भय्या दो चार महिने में ही नई सडक का कचुमर कैसे निकल गया...
मैं भी ऐसे बता रहा हूं जैसे की मुख्यमंत्री जी को कुछ पता ही ना हो... हालात बहुत गंभीर हैं... मैं कहता हूं, सौ चुहे खा कर तो बिल्ली भी हज को चले जाती है... आप कब हज पर जा रहे हैं महाशय !! 

~ कपिल सिंह चौहान

+91 9407117155

#Kapilsingh #Copyrightkapilsingh #mp360news

05 July 2017

पत्रकार



चाँद को ठोर देता हूँ,
पहाडो के राज़ कहता हूँ
बहुत मुश्किल नही है ये,
की दरख्तों को भी छॉंव देता हूँ मैं...

रास्ता सभी का एक ही है,
मंजिल भी एक ही है
बस सफर है ये के जहाँ,
खूsssल के सांस लेता हूं मैं...

झूंठ-फाश का शगल
है.. तो है ! तो ! है तो,है..
हाँ, माना के कभी कभी
मुसीबत, मोल लेता हूं मैं... 

मैं क्या हूँ, क्या हो तुम
चंद लम्हों में हो जायेंगे गुम
झूंठ बिकता है जिस बाज़ार में,
सच को बांच देता हूँ मैं...

दुआओं में जिंदा रहुंगा,
देखना गर सच कहुंगा मैं
मैं रहूं ना रहूँ, बेपरवाह हो
अफवाहों के पर कतर देता हूं मैं... 

ओट में छिपी हकीकत को
मुझसे देखा नही जायेगा
फिक्र यही है के किसी रोज ना
  मदमस्त इस और लेटा रहूं मैं...

~ #कुं‌_कपिल_सिंह_चौहान
+91 9407117155 
#Kapilsingh #mp360news #पत्रकार #Copyrightkapilsingh
— with Kunwar Kapil Singh Chauhan